News/Updates


Welcome To B.M.G. Degree College

विश्वानि देव सवितर्दुरितानि परा सुव
यद् भद्रं तन्न आ सुव (ऋग्वेद- 5/82/5)

समस्त संसार को उत्पन्न करने वाले सृष्टि के पालन व संहार करने वाले सम्पूर्ण विश्व को अपने तेज से प्रकाशित करने वाले एवं जगत को शुभ कर्मो में प्रवृत्त करने वाले सविता देव हमसे हमारे सम्पूर्ण पापों एवं दुःखों को दूर कर सदा सभी का कल्याण करने वाले है। इसी मंत्र को लक्ष्य मानकर महाविद्यालय का प्रतीक तैयार किया गया है। जिस प्रकार से आदित्य अंधकार से लड़ते हुए अपने मार्ग में पड़ने वाले अवरोधों को चीरते हुए प्रातःकाल अपनी लालिमा से सम्पूर्ण जगत को आलोकित करतें हुए सृष्टि में नवसंचार पैदा करते हैं उसी प्रकार इस विद्या के मन्दिर में प्रवेशित छात्र अपने अज्ञान को दूर कर अपनी ज्ञान की रश्मि से सम्पूर्ण समाज को नई दिशा दें और नव प्रकाश फैलाते हुए लोगो में नवीन चेतना का संचार करें यही हमारा लक्ष्य है।